Tag Archives: ROOPLAL_MARAVI

ढोल बाजे ढोलकी, मजीरा बाजे करताल…डोमकच्छ गीत-

ग्राम-दुधवापारा, पंचायत-भकुरा, ब्लाक-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सोन कुवर शादी के अवसर पर गया जाने वाला एक डोमकच्छ गीत सुना रही हैं :
ढोल बाजे ढोलकी, मजीरा बाजे करताल-
राम लक्षमन पूजा करे ढोलकी के बाजा-
खोला खोला लोलो हमार ढोलकी के बाजा-
ढोल बाजे ढोलकी, मजीरा बाजे करताल…

Download (17 downloads)

हमारे मोहल्ले में हैंडपंप नही है पानी के लिये समस्या होती है…कृपया मदद करें-

ग्राम-बेल्करिहा पारा, पंचायत-कुसमुसी, ब्लाक-भैयाथान, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से त्रिलोक पैकरा बता रहे हैं, उनके गाँव के वार्ड क्रमांक 14 में हैण्डपंप नहीं है | गांव में 150 लोगों की जनसंख्या है| लोगों को पानी के लिये दिक्कतों का सामना करना पड़ता है | वर्तमान में वे ढोढ़ी (छोटा कुआ) से पानी लाकर उपयोग करते हैं, जिससे सर्दी, खांसी जैसी अनेक बीमारियां हो जाती है | समस्या को हल कराने के लिये उन्होंने आवेदन दिया, लेकिन सुनवाई नही हो रही है | इसलिये वे सीजीनेट सुनने वाले सांथियों से अपील कर रहे हैं कि दिए गये नंबरों पर बात कर समस्या को हल कराने में मदद करें : कलेक्टर@9826443377, सरपंच@7722807891. संपर्क नंबर@9516254787.

Download (4 downloads)

हमारे गांव में आज से पूर्व भक्तों का वास था, लोग सात्विक भोजन करते थे…

ग्राम-हाटपानी, पंचायत-भाड़ी, ब्लाक-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से फुलेश्वरी और राघो बता रही हैं वे पंडो समुदाय से हैं | आज से पूर्व गांव में लोग खाने में मांस मदिरा का सेवन नही करते थे | लेकिन अब समय बदल चुका है | लोग मांस मदिरा का सेवन करने लगे हैं | समाज में भक्ति को त्यागकर लोग बुराई की तरफ बढ़ रहे हैं | उनका कहना शराब बंद होगा या नही ये मालूम नही है लेकिन उनके हांथ में होता तो वे समाज में बदलाव लाते | उनके पिता एक भक्त थे, नाम बलदेव था | भगत समुदाय सफेद सूती वस्त्र पहनते थे | पहले महुआ का उपयोग खाने के लिये करते थे लेकिन आज महुवा का उपयोग कर शराब पीते हैं और विवाद करते हैं, जिससे पारिवारिक रिश्ते खराब होते हैं |

Download (5 downloads)

जियत जागत मन के बाजे, धाम बरोबर होथे…कविता-

ग्राम-कुसमुसी, ब्लाक-भईयाथान, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से ऋतू पैकरा और बिंदिया पैकरा एक कविता सुना रहे हैं :
जियत जागत मन के बाजे, धाम बरोबर होथे-
एक सन आजादी के सौ जनम बरोबर होथे-
जेखर चेथी मा जुड़ा कस माढे रथे गुलामी-
जेन जोहारे बैरी मन ला घोलंड के लामा लामे-
नाव ले जादा जग मा ओखर होथे के बदनामी-
अइसन मन के जिंदगी बेशरम बरोबर होथे…

Download (8 downloads)