Tag Archives: HD_GANDHI

स्वास्थ्य स्वर : पेट दर्द को ठीक करने का घरेलू उपचार-

प्रयाग विहार, मोतीनगर, रायपुर (छत्तीसगढ़) से वैद्य एच डी गाँधी पेट दर्द का घरेलू उपचार बता रहे हैं, काली मुसली 100 ग्राम, दाल चीनी 100 ग्राम,  त्रिफला 100 ग्राम, सेंधा नमक 30 ग्राम और हींग 20 ग्राम सभी को साफ कर पीस कर चूर्ण बना लें और मिलाकर सुरक्षित रख लें, उसके बाद एक-एक चम्मच चूर्ण भोजन के एक घंटे पहले पानी के सांथ सेवन करें इससे लाभ हो सकता है, भोजन में तेल, खटाई,  मिर्च, मसाला, गरिष्ठ पदार्थ का प्रयोग कम करे, नशा न करें :  एच डी गाँधी@9111061399.

[Download not found]

स्वास्थ्य स्वर : बार-बार पेशाब होने की समस्या की समस्या का घरेलू उपचार-

रायपुर (छत्तीसगढ़) से वैद्य एच डी गांधी बार-बार पेशाब होने की समस्या को दूर करने का घरेलू उपचार बता रहे हैं, सौंफ100 ग्राम,  काली मुसली100 ग्राम,  जायफल 50 ग्राम और मिश्री 50 ग्राम लेकर सभी को साफ कर पीसकर चूर्ण बना लें और सुरक्षित रख लें, उसके बाद एक-एक चम्मच चूर्ण भोजन के बाद गुनगुने पानी के सांथ दिन में दो बार सेवन करें,  इससे लाभ हो सकता है,  ठण्डी चीजों से बचे, चावल, आलू का प्रयोग कम करें, मिर्च, मसला, तेल, खटाई, गरिष्ठ भोजन का प्रयोग कम करें,  संतुलित भोजन लें, नशा न करें :   एच डी गांधी@9111061399.

Download (2 downloads)

हम खेती में राशयानिक खाद का प्रयोग नहीं करते, जैविक खेती करते है-

जबलपुर  (मध्यप्रदेश)  से प्रदीप  दुबे  बता रहे हैं, कि वे जैविक खेती पर काम  करते हैं,  वे आदिवासियों की प्रचलित पद्धति के अनुसार खेती करते हैं,  खेती में किसी प्रकार की रासायनिक खाद का उपयोग नहीं करते हैं, गोबर खाद का प्रयोग कर करते हैं, जिसमे 4 -5 महीने में फसल तैयार हो जाती है, वे 2 तरह की फसल उगाते हैं,  कोदो और कुटकी | आज से पहले लोग उन फसलों को अपने खाने के लिये उगाते थे, लेकिन आज के समय में बीमारियों को दूर करने में उपयोग होने लगा है, जिनको डायबटीज की समस्या है वे इसका उपयोग कर रहे हैं, बड़े शहरों में अभी इसकी बड़ी मात्रा में मांग है |

Download (5 downloads)

कल्पचूर्ण बनाने का घरेलू नुस्खा…स्वास्थ्य स्वर-

प्रयाग विहार, मोतीनगर, रायपुर (छत्तीसगढ़) से वैद्य एच डी गाँधी कल्पचूर्ण बनाने का घरेलू नुस्खा बता रहे हैं, त्रिफला चूर्ण,  गिलोय चूर्ण,  अजवाइन चूर्ण, करेला चूर्ण,  तुलसी पंचांग 100-100 ग्राम,  सोंठ,  चित्रक मूल,  अडूसा,  छोटी पीपली,  त्रिकुटा चूर्ण 50-50 ग्राम,  मुलेठी, अतीस, चिरायता, काला नमक, सेंधा नमक 20-20 ग्राम लें और सभी को अलग-अलग साफ़कर पीस कर रख लें, उसके बाद आधा-आधा  चम्मच चूर्ण गुनगुने पानी के सांथ सेवन करें, इससे लाभ हो सकता है, तेल, खटाई,  मिर्च मसाला का सेवन कम करें नशा न करें,  पानी पर्याप्त मात्रा में पियें, संतुलित भोजन करें, 6-8 घंटे आराम करें |
वैद्य एच डी गाँधी@ 9111061399.

Download (12 downloads)