Category Archives: POEM

जियत जागत मन के बाजे, धाम बरोबर होथे…कविता-

ग्राम-कुसमुसी, ब्लाक-भईयाथान, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से ऋतू पैकरा और बिंदिया पैकरा एक कविता सुना रहे हैं :
जियत जागत मन के बाजे, धाम बरोबर होथे-
एक सन आजादी के सौ जनम बरोबर होथे-
जेखर चेथी मा जुड़ा कस माढे रथे गुलामी-
जेन जोहारे बैरी मन ला घोलंड के लामा लामे-
नाव ले जादा जग मा ओखर होथे के बदनामी-
अइसन मन के जिंदगी बेशरम बरोबर होथे…

Download (8 downloads)

देखो-देखो बादल आये, सांथ अंधेरा कैसा लाये…कविता-

जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से राकेश कुमार एक कविता सुना रहे हैं :
देखो-देखो बादल आये, सांथ अंधेरा कैसा लाये-
बादल गरजा खड – खड – खड, मेंढक बोला टर्र – टर्र -टर्र-
पानी बरसा छम – छम – छम-
छाता लेकर निकले हम, पाँव फिसल गया गिर गये हम-
नीचे छाता ऊपर हम…

Download (11 downloads)

वर्षा आती, वर्षा आती, घने घने बादल ले आती…कविता-

ग्राम पंचायत-पासल, विकासखण्ड-ओडगी, जिला-सूरजपुर  (छत्तीसगढ़) से हरिओम एक बाल कविता सुना रहे हैं :
वर्षा आती, वर्षा आती, घने घने बादल ले आती-
गरजे बादल चमके बिजली, पानी की बौछार पड़ती-
नदी तालाब खेत भर जाते, सभी किसान खुश हो जाते…

Download (0 downloads)

भारत माता के बेटे हम चलते सीना तान के…कविता-

ग्राम पंचायत-कांतीपुर, विकासखण्ड-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से प्रेम कुवर सिंह और रीता सिंह एक कविता सुना रहे हैं :
भारत माता के बेटे हम चलते सीना तान के-
धर्म अलग हो, जाती अलग हो, वर्ग अलग हो भाषा-
पर्वत, सागर तट, मैदानो से हम आये हैं-
फौजी वर्दी में हम सबसे पहले हिंदुस्तान के…

Download (22 downloads)

जंगल घूमा चाचा जी ने, दूरबीन लिया सांथ में…बाल कविता-

ग्राम पंचायत-असुरा,  विकासखण्ड-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सभ्या एक बाल कविता सुना रही हैं :
जंगल घूमा चाचा जी ने, दूरबीन लिया सांथ में-
दूर-दूर की चिड़िया दिखती उनको अपने पास में-
उंचे पेड़ पर चढ़कर देखा एक तेंदुवा नीचे-
तभी अचानक दौड़ा बंदर उसके पीछे…

Download (10 downloads)