Category Archives: Impact

impact: 6 महीने से नल खराब था, सीजीनेट सांथियो के प्रयासों बन गया है-

ग्राम-नवाडीह, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से ननकूराम मरकाम बता रहे हैं कि उनके पारा में 6 महीने से नल खराब था, लोगो को पानी की समस्या हो रही थी, लगभग 25 परिवार नल से पानी उपयोग करते थे, नल के सुधार के लिए उन्होंने संबंधित विभाग में आवेदन दिया, लेकिन कोई निराकरण नही हो रहा था, जिसके बाद उन्होंने 3 महीने पहले सीजीनेट में अपनी समस्या को रिकॉर्ड किया, अब सीजीनेट के सांथियो के प्रयासों से पानी की समस्या हल हो चुकी है, इसलिए वे सीजीनेट के सांथियो और संबंधित अधकारियों को धन्यवाद दे रहे हैं |

impact: गांव में पानी की समस्या थी, संदेश रिकॉर्ड करने के बाद डबरी निर्माण का कार्य शुरू हो चुका है…

भुइंयापारा, ग्राम पंचायत-भेड़िया, ब्लाक-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से राज कुमार बता रहे हैं, उनके गांव में पानी की समस्या थी, जिसके कारण पीने और सिचाई करने के लिए दिक्कत होती थी,  उन्होंने अपनी समस्या को अधिकारियों के पास रखा, लेकिन कोई सुनवाई नही हो रही थी, तब उन्होंने अपनी समस्या को सीजीनेट में रिकॉर्ड किया, जिसके 15 दिन  बाद उनके गांव में डबरी निर्माण का कार्य एक हफ्ते से शुरू हो चुका है, इसलिए वे सीजीनेट के सांथियो और संबंधित अधिकारियों को जिन्होंने उनकी मदद की सभी को धन्यवाद दे रहे हैं |

Download (47 downloads)

impact: हमारे पारा में पानी की समस्या थी, हैण्डपंप लग जाने से समस्या हल हो गई है…

सुर्रुपारा, ग्राम पंचायत-लेदरा तेलियापानी,  तहसील-पंडरिया,  जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से फाजीराम बता रहे हैं, उनके पारा में हैण्डपंप नही था, जिससे पीने के पानी की समस्या थी, पारा में सात घर है,  समस्या को लेकर उन्होंने संबंधित अधिकारियों के पास आवेदन किया लेकिन कोई सुनवाई नही हो रही थी, तब उन्होंने निवासी धनियाबाई के सांथ दो महीने पहले सीजीनेट में अपनी समस्या रिकॉर्ड किया, जिसके बाद अधिकारियों और सीजीनेट सांथियो के मदद से पारा में हैण्डपंप लग गया है, इसलिए वे सीजीनेट के सांथियो और संबंधित अधिकारियों को धन्यवाद दे रहे हैं, जिन्होंने उनकी मदद की |

impact: 3 सोलर प्लेट की जगह 2 सोलर प्लेट होने से बारिश में दूषित पानी पीना पड़ता था…

भांसी बंगाली कैम्प, जिला-दंतेवाडा (छत्तीसगढ़) से रीना अधिकारी बता रही हैं, उनके गांव में बोरिंग की समस्या थी, बोरिंग को चलाने के लिए 3 सोलर प्लेट के जगह  2 सोलर प्लेट लगे थे, जिससे बारिश के दिनो में बोरिंग से पानी नही मिल पता था, वे नदी, नाले से पानी लाकर पीते थे, दूषित पानी से लोग बीमार पड़ते थे, समस्या को हल कराने के लिए उन्होंने संबंधित अधिकारियों के पास आवेदन दिया, लेकिन उस पर कोई सुनवाई नही हो रही थी, तब उन्होंने सीजीनेट में अपनी समस्या को रिकॉर्ड किया जिसके 1 महीने के अंदर उनकी समस्या हल हो चुकी है, इसलिए वे सीजीनेट के साथियो और संबंधित अधिकारियों को धन्यवाद दे रही हैं, जिनकी मदद से समस्या हल हो गई |

Impact:नापने के लिए किलोबाट के जगह नमक पैकेट का प्रयोग करते थे, अब समस्या हल हो चुकी है…

ग्राम-सिंघपुर, तहसील-पंडरिया, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से हेमसिंह मरकाम बता रहे हैं, उनके गांव के सोसायटी में राशन वितरक द्वारा शक्कर तौलते समय किलोबाट के जगह नमक का पैकेट रखते थे, जिसका उन्होंने कई बार विरोध किया, लेकिन उस पर कोई सुनवाई नही हो रही थी, तब उन्होंने सीजीनेट में अपना संदेश रिकॉर्ड किया, जिसके बाद लगातार सीजीनेट के सांथियो के प्रयासों से अब नापने के लिए किलोबाट का प्रयोग होने लगा है, इसलिए वे सीजीनेट के सभी साथियो और संबंधित अधिकारियों का धन्यवाद दे रहे हैं |

Download (34 downloads)