फूट-फूट रोंवय धरती मईया रे जग के रचईया…गीत-

ग्राम-तराडांड, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से बाबूलाल नेटी एक स्वलिखित गीत सुना रहे हैं :
फूट-फूट रोंवय धरती मईया रे जग के रचईया-
कि टप-टप गिरय आंसू धार-
बेटा मोर तै गोदी मा खेले, सुख-दुखी के झुलना झूले-
तोर सुख बर मै हा बेटा, सर्दी-गर्मी ठंडी झेले-
तबो ले चलथस तै हथियार रे, मोर सोन चिरैया-
जग के मोर सबो हा बेटा, हंस हंस कमाए गा-
तब सुख से बीते जिंदगी, एक थाली मा खाए गा…

Download (7 downloads)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *